मेडिकल स्टोर कैसे खोले – केमिस्ट शॉप बिज़नेस – How To Open Medical Store In Hindi


मेडिकल स्टोर बिज़नेस यानि केमिस्ट की शॉप का बिज़नेस एक बेहतरीन और एवरग्रीन बिज़नेस आईडिया है। भारत में केमिस्ट की शॉप का बिज़नेस एक ऐसा काम है जो कभी बंद नहीं होने वाला और ही इस बिज़नेस में कभी कोई नुक्सान हो सकता है।
दोस्तो मेडिकल स्टोर एक
सदाबहार बिज़नेस है। क्योंकि
इसका कनेक्शन सीधा
हमारे स्वास्थ्य से
होता है जो
कि हर मौसम
में बदलाव के
कारण खराब  होता
रहता है। एक
बार कोई व्यक्ति
खाना कम खाये
तो बात बन
सकती है लेकिन
यदि उसका स्वास्थ्य
खराब हो जाए
तो इलाज करवाना
ही होता है।
जाहिर है इलाज
करवाने में दवाइया
लगेंगी , और वह
हर बार मेडिकल
पर दवाइया  जरूर
लेने जाएगा,   गौरतलब
है कि मेडिकल
स्टोर एक बहुत
ही फायदेमंद व्यवसाय
है। जिसका किसी
मार्किट के उतार
चढ़ाव से कोई
लेना देना नही
है आज
मैं इस पोस्ट
के माध्यम से
यह बताने की
कोशिश करूंगा कि
मेडिकल स्टोर खोलने के
लिए क्या प्रोसेस
है

पीडबल्यूसी द्वारा दी गयी रिपोर्ट की मानें तो भारत में फार्मेसी बिज़नेस जो की 2001 में 13000 करोड़ पर थी लेकिन 2020 में 35000 करोड़ तक पहुँच जाएगी। इससे आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि फार्मेसी में बिज़नेस करना आपके लिए कितना फायदेमंद हो सकता है।

कितना लाभ कमा सकते है

रिटेल मेडिकल स्टोर लाभ मार्जिन 5% – 30% तक करती है। इसमें हर तरह के प्रोडक्ट्स की मार्जिन अलग अलग होती है जैसे फँसज प्रोडक्ट्स की प्रॉफिट मार्जिन, जेनेरिक मेडिसिन्स, ओटीसी (ओवरकाउंटर) मेडिसिन्स, ब्रांडेड प्रिस्क्रिप्शन प्रोडक्ट्स। इसके बाद आप जो भी कुछ डिस्काउंट प्रोवाइड करते हैं जो कि 5% – 20% तक हो सकता है। उसके बाद आपका बेनिफिट मार्जिन करीब 5% – 25% तक बन सकता है। नीचे दिए गए पाई चार्ट से आप समझ सकते हैं कि हर एक प्रोडक्ट में कितनी बेनिफिट मार्जिन मिल सकती है और डिस्काउंट के बाद कितना प्रॉफिट मार्जिन मिल सकता है


मेडिकल
स्टोर खोलने की योग्यता

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए व्यक्ति को 
Ø 
D.
Pharma ( diploma in pharmacy)  का कोर्स करना
होगा जो कि 3 साल का कोर्स होता है या
Ø 
B.pharma
(bachelor of pharmacy)  का कोर्स करना होगा
जो कि 2 साल का होता है। या
Ø 
M.
Pharma (master of pharmacy)  का कोर्स करना
होगा
Ø 
इसके बाद
pharmacy council में रजिस्ट्रेशन कराना होगा.
इनमें से किसी भी  कोर्स को करने में लगभग 2.5 लाख से 3 लाख रुपये
की आवश्यकता होगी मेडिकल स्टोर के लिए इसके बाद दूसरा महत्वपूर्ण step लाइसेंस तथा
रजिस्ट्रेशन का होता है। जिसे निम्न भागो में बांटा गया है।
 
लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन फ़ॉर मेडिकल स्टोर
1. हॉस्पिटल फार्मेसी
इस प्रकार का मेडिकल
हॉस्पिटल के अंदर स्थित होता है।  तथा वही से
दवाइयों की बिक्री करता है।
2. टाउनशिप फार्मेसी
जैसा कि नाम से ही
प्रतीत होता है कि यह मेडिकल स्टोर किसी बस्ती या शहर के अंदर स्थित होता है तथा वहां
के निवासित लोगो को सेवाएं प्रदान करता है
3. चैन फार्मेसी
इसके अंतर्गत बड़े बड़े
उद्योग घराने  अथवा शहर आदि में मेडिकल स्टोर
की की श्रृंखलाएं खोली जाती है जैसे अपपोलो फ़ार्मेसी, डाबर फार्मेसी,रेड क्रॉस सोसायटी
आदि
4. स्टैंड अलोन फ़ार्मेसी
इस प्रकार का लाइसेंस
उन व्यक्तियों को दिया जाता है जो कि रिहायसी इलाको में मेडिकल स्टोर खोलना चाहते हो,
किसी गली या मोहल्ले में स्थित मेडिकल इसी लाइसेंस के अंतर्गत आते है।
टैक्स का पंजीकरण
– Tax registration
इस बिज़नेस के लिए Value
Added – Tax Registration कराना अनिवार्य होता है। VAT रजिस्ट्रेशन के लिए आप अपने  नजदीकी VAT या सेल्स टैक्स डिपार्टमेंट से संपर्क
कर सकते है।
मेडिकल स्टोर के लिए ड्रग लाइसेंस – Drug
License for Medical Store
यह लाइसेंस मेडिकल
स्टोर के लिए मुख्य होता है इसके बिना आप मेडिकल स्टोर का संचालन नही कर सकते है।।
यह लाइसेंस केंद्र और राज्य  औषधि मानक नियंत्रण
संग़ठन द्वारा ज़ारी किया जाता है। जारी किये जाने वाले लाइसेंस दो प्रकार के होते है-
1.  
Retail Drug Licence– दवाइयों के फूटकर विक्रेता को यह लाइसेंस जारी
किया है।
2.  
Whole Sale Drug Licence– दवाइयों के थोक विक्रेता को यह लाइसेंस जारी
किया जाता है।
लेकिन (जैसा कि मैंने
ऊपर बताया है।) यह लाइसेंस उन्ही व्यक्तियों को दिया जाता है जिनके पास किसी मान्यता
प्राप्त संस्थान से फ़ार्मेसी मे डिप्लोमा  होता
है।,

ड्रग
लाइसेंस के लिए आवश्यक दस्तावेज – Documents for Drug License

v 
खुद की
ज़मीन
v 
यदि किराये
पर है तो किरायानामा
v 
दो फोटो
v 
आधार कार्ड
या पेन कार्ड
v 
फर्नीचर
v 
फ्रीज़
v 
बिजली
बिल
v 
50 रुपये
या 100 रुपये का एक स्टाम्प पेपर
लाइसेंस लेने में लागत
Gorvment द्वारा इसका
लाइसेंस महज 3 से 5 हज़ार रुपये है। लेकिन इसका लाइसेंस मिलना मतलब मेडिकल स्टोर की
चाबी मिलना ही कहा जा सकता है। क्योकि कॉम्पटीशन का जमाना है लोग सिर्फ अपनी सोचते
है इस बारे में मैं अधिक नही कहना चाहूंगा समझदार हो तो समझ जाइये।
मेडिकल स्टोर खोलने में लागत
मेडिकल स्टोर खोलने
के लिए बुनियादी जरूरतों का पूरा होना आवश्यक होता है। क्योकि दूसरे व्यवसाय व्यक्ति
चाहे तो लाइसेंस लेकर चला सकता है लेकिन इस व्यवसाय के लाइसेंस के लिए ही बुनियादी
आवश्यकताओं की पूर्ति होनी चाहिए जैसे खुद की जमीन,दुकान, फर्नीचर, फ्रिज इत्यादि इन्ही
सब मे आपका लगभग 2 से 3 लाख तक लग जायेगा यदि खुद की जमीन हो तो। इसके बाद लाइसेंस,
डिप्लोमा , दवाइयां आदि का खर्च मिला लिया जाए तो लगभग 5 से 7 लाख ओर लग सकता है।
कुछ व्यक्ति अपने सगे
संबधी व्यक्तिओ द्वारा लाइसेंस बनवाकर वही यह काम करते है जिनमे उनका डिप्लोमा कोर्स
आदि का खर्चा बच जाता है, आप भी किसी व्यक्ति द्वारा जिसने फ़ार्मेसी में डिप्लोमा किया
हुआ हो उससे लाइसेंस बनवाकर इस व्यवसाय को आसानी से कर सकते है, बशर्ते आपको दवाइयों
के साथ साथ इंग्लिश भाषा का अच्छा ज्ञान होना चाहिए अन्यथा यह आपके बिज़नेस के लिए घातक
साबित हो सकता है।
अब आती है बात इनकम की तो – इस बिज़नेस से कमाई
कितनी की जा सकती है?
कमाई भी इस बिज़नेस
का खास हिस्सा है और क्यो न हो जब इतने पैसे लगाए और मुनाफा न हो तो  क्या फायदा, 
इस बिज़नेस की कमाई पूरी तरह लोकेशन पर डिपेंड करती है। अक्सर देखा जाता है कि
मेडिकल स्टोर्स ज्यादातर जिस स्थान पर हॉस्पिटल होते है वही खोले जाते है या जो लोग
हॉस्पिटल से दूर स्थित होते है वे डॉक्टर्स के संपर्क में रहते है ताकि दूर रहते हुए
भी वे अच्छी कमाई कर सके। वैसे तो  इस बिज़नेस
में लाखों कमाने वाले भी है तो कुछ मेडिकल स्टोर्स 10 या 20 हजार से ही काम चला रहे
है।

Related articles

Top 10 Small Business Ideas

Starting a small business can be an excellent opportunity...

जीएसटी नंबर के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें (How to registration for GST number in Hindi)? – Part 2

Registration for GST Number - Part 2 नीचे दिए स्टेप्स फॉलो कर आप GST रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन ही कर सकते हैं। सबसे पहले अपने ब्राउज़र पर इस लिंक को खोलें - http://www.gst.gov.in।  आपके सामने एक पेज खुल जाएगा। उस पेज पर न्यू रजिस्ट्रेशन(new registration) के लिए फॉर्म GST...

मार्केटिंग कैसे करें व 2023 के मार्केटिंग के विभिन्न बेहतरीन तरीके – 2023 Top Best Marketing Strategy Tips in Hindi

आज के समय में पैसे खर्च कर व्यापार स्टार्ट करना तो बहुत आसान काम है, मुश्किल है तो आपकी सोच को लोगों तक पहुँचना और लोगों को अपनी ओर आकर्षित करना. मार्केटिंग और प्रमोशन ही वह चीजें है, जिसके द्वारा आप अपना प्रोडक्ट और सेवाएँ लोगों तक पहुंचा सकते है और लोगों को इसके संबंध में जानकारी दे सकते है. वैसे तो मार्केटिंग के कई तरीके उपलब्ध है, परंतु आपको अपना व्यवसाय उसका आकार और प्रकार देखकर सही तारीका चुनने की आवश्यकता होती है. और कई हद तक आपकी मार्केटिंग का तरीका आपके बजट और आपके प्रोडक्ट या सेवा पर भी निर्भर करता है. मार्केटिंग क्या है ? - what is Marketing ? मुख्यतः मार्केटिंग वह तरीका है जिसके द्वारा लोग अपनी जरूरतों और इच्छाओ की पूर्ति के लिए आपके व्यापार से परिचित होते है. हमारे आसपास कई ऐसे उदाहरण मौजूद होते है, जिनमें लोगों के पास एक बहुत अच्छा बिज़नेस प्लान होता है, परंतु उसे सही मार्केटिंग ना मिल पाने की वजह से वह लोगों तक नहीं पहुँच पाता और असफल हो जाता है. आपको अपने व्यापार को सफल बनाने के लिए यह आवश्यक है कि आप अपने दायरे से बाहर आकर लोगों तक अपनी सोच को पहुंचाये और अपने लिए एक ग्राहकों का आधार तैयार करे. एडवरटाइजिंग, सेलिंग और प्रमोशन मार्केटिंग का ही एक भाग है, परंतु मार्केटिंग केवल इन तक सिमित नहीं इससे और भी बहुत कुछ जुड़ा हुआ है. मार्केटिंग के 6 पी (6 P’s of Marketing ) : जब आप अपने प्रोडक्ट या सेवा को लांच करते है तो आपको मुख्यत 6 बातों को ध्यान रखना पड़ता है, इन्हें मार्केटिंग के 6 पी के नाम से जाना जाता है. यह 6 पी निम्न है: ...

Case Studies