स्वदेशी बिजनेस आइडिया – कैसे बने आत्मनिर्भर – Low Investment Swadeshi Business Ideas

देश और स्वयं
को आत्मनिर्भर बनाने
के लिए शुरू
करें ये 5 स्वदेशी
बिज़नेस, होगा फायदा
लाखों में

आजकल बाजार में स्वदेशी
बिज़नेस की डिमांड
लगातार बढ़ रही
है, क्योंकि अब
अधिकतर लोग स्वदेशी
उत्पादों की ओर
रूख कर हैं.
इसके चलते स्वदेशी
उत्पादों की डिमांड
भी बढ़ गई
हैं. इसका मुख्य
कारण है कि
देशविदेश में
कोरोना की वजह
से आयातनिर्यात
में कमी
गई है. इससे
अर्थव्यवस्था पर भी
काफी असर पड़
रहा है. ऐसे
में देश को
और नागरिक को
आत्मनिर्भर बनाने के लिए
स्वदेशी बिज़नेस शुरू करने पर
लगातार जोर दिया
जा रहा है,
इसलिए हम अपने
इस लेख में
2 स्वदेशी बिज़नेस आइडिया लेकर
आए हैं, जो
लोग अपना खुद
का बिजनेस शुरू
करना चाहते हैं.
वह कम निवेश
में इन स्वदेशी
बिजनेस  को
शुरू करके अच्छा
मुनाफ़ा कमा सकते
हैं.

 

जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने
लॉकडाउन के बीच
अपना 5वां संबोधन
दिया, तो देश
को आत्मनिर्भर बनाने
का भी ऐलान
किया. पीएम मोदी
ने ऐसा इसलिए
कहा, क्योंकि देश
पर कोविड-19 संकट
के चलते किसी
को भी अन्य
देशों में जाने
की अनुमति नहीं
है. यही हाल
अन्य देशों का
भी है. इस
स्थिति में देश
और विदेश से
होने वाला आयातनिर्यात का कम
हो जाएगा, जिससे
विदेशी उत्पादों की कमी
होगी. इन हालातों
को देखते हुए
ही देश का
आत्मनिर्भर बनाना ज़रूरी है.
इसके लिए हर
नागरिक को स्वदेशी
उत्पादों का उपयोग
करना होगा. इससे
उसकी मांग भी
अधिक बढ़ जाएगी.
अगर आप भी
स्वदेशी उत्पादों का बिजनेस
शुरू करना चाहते
हैं, तो यह
लेख आपके लिए
पढ़ना बेहद ज़रूरी
है, क्योंकि इस
लेख में हम
कुछ खास स्वदेशी
बिजनेस के विकल्प
बताने जा रहे
हैं.

क्या है स्वदेशी
बिजनेस (What is Swadeshi
Business)

जब अपने ही
देश में किसी
उत्पाद की मैन्युफैक्चरिंग
और डिस्ट्रीब्यूशन किया
जाता है. यानी
जिस उत्पाद को
अपने देश में
भी बनाया और
बेचा जाए,  तो
उसे स्वदेशी बिजनेस
की श्रेणी में
रखा जाता है.
आज के समय
में देश की
कई कंपनियां स्वेदशी
उत्पादों का निर्माण
कर रही हैं,
जिससे उन्हें अच्छा
मुनाफ़ा भी मिल
रहा है. अगर
आप भी स्वदेशी
उत्पाद बनाना का बिजनेस
शुरू करना चाहते
हैं, तो यह
आपके लिए बहुत
लाभकारी साबित होगा, क्योंकि
इस समय देश
में स्वदेशी उत्पादों
की मांग तेजी
से बढ़ रही
है.

ये हैं स्वदेशी
बिज़नेस के विकल्प
(Swadeshi business ideas)

 

LED लाइट बनाने का छोटा व्यापार करें

LED लाइट बनाने का छोटा
व्यापार करें ! एलईडी का
पूरा नाम लाइट
एमिटिंग डायोड (Light emitting diode) है, एलईडी
बल् से
बिजली की खूब
बचत होती है।
इसी वजह से
भारत सरकार देश
में एलईडी को
बढ़ावा दे रही
है, पिछले कुछ
समय में सरकार
ने देश भर
में डोमेस्टिक एफिसिएंट
लाइटिंग प्रोग्राम (DEPL) की शुरुआत
की थी। इस
समय इसी योजना
का नाम भारत
सरकार द्वारा बदल
कर उजाला कर
दिया गया है,
अब तक देश
के कई हिस्सों
में इस योजना
का पालन हुआ
और यह योजना
काफ़ी सफल रही।
उजाला के सफ़ल
होने से देश
में एलईडी के
व्यापार की संभावनाएं
बढती  जा रही
हैं, एलईडी व्यापार
को आसानी से
बेहद कम पैसे
में शुरू किया
जा सकता

  • स्वदेशी स्नैक्स (Swadeshi Snacks) :-

हमारे देश के लोग खाने
पीने के काफी शौकीन होते हैं. खासकर स्नैक्स वाली चीजें. विदेशों से कई तरह के व्यंजन
का सेवन किया जाता हैं जिसका प्रचलन अब हमारे देश में भी काफी अधिक मात्रा में हो गया
है. जैसे लेस, अंकल चिप्स, पेप्सी, फनमंच आदि इसी तरह के प्रोडक्ट का इस्तेमाल लोग
बहुत अधिक कर रहे हैं. ये प्रोडक्ट्स बनाने वाली कंपनी पेप्सिको एक विदेशी कंपनी है.
हालांकि इसकी जगह पर भारत में भी कुछ स्नैक्स बनाने वाली कंपनी प्रचलित हो गई हैं,
जैसे कि बिकानो नमकीन, हल्दीराम, बीकाजी, आइन आदि. यदि आप बेहतर नमकीन एवं स्नैक्स
बनाना जानते हैं तो आप भी विभिन्न स्वादिष्ट स्नैक्स बनाकर अपनी खुद की कंपनी शुरू
कर सकते हैं.

स्वदेशी टॉनिक (Swadeshi Tonic) :-

भारत में लोग विदेशी कंपनियों के कुछ
टॉनिक का सेवन अपनी शारीरिक शक्ति को बढ़ाने के लिए करते हैं. इनमें मुख्य रूप से बूस्ट,
पॉल्सन, बॉर्नविटा, हॉर्लिक्स, शिकायत, स्पर्ट, प्रोटीन आदि मुख्य रूप से उपयोग किये
जाते हैं. लेकिन भारत की आयुर्वेद कंपनी पतंजलि भी काफी तरह के टॉनिक्स का निर्माण
करती हैं जोकि काफी ज्यादा फायदेमंद होते हैं जिनमें बादाम पाक, च्वनप्राश, अमृत रसायन,
आंवला एवं एलोवेरा जूस आदि शामिल हैं. यदि आप भी विभिन्न आयुर्वेदिक या अन्य तरीके
के ऐसे टॉनिक बना सकते हैं जोकि स्वादिष्ट एवं रसायन मुख्य होते हैं और शरीर के लिए
लाभकारी हैं. तो आपके लिए यह एक बेहतर स्वदेशी बिज़नेस शुरू करने का आईडिया है.

स्वदेशी कंप्यूटर और टैबलेट (Swadeshi Computer / Tablet) :-

यदि आप एक
हार्डवेयर इंजिनियर हैं, और
आप में इतना
नॉलेज हैं कि
आप स्वयं कंप्यूटर
और लैपटॉप का
निर्माण अपने देश
में ही रह
कर कर सकते
हैं, तो आप
स्वयं की ब्रांड
नाम के साथ
यह व्यवसाय शुरू
करने के बारे
में विचार कर
सकते हैं. यह
एक स्वदेशी बिज़नेस
आइडियाज होगा. कई विदेशी
कंपनियों के कंप्यूटर
एवं लैपटॉप जैसे
कि एचपी, कॉम्पैक,
डैल, माइक्रोसॉफ्ट, आईपैड,
सैमसंग, मोटोरोला, सोनी एवं
एलजी आदि लोगों
के घरों में
अक्सर देखे जाते
हैं. लेकिन एचसीएल,
माइक्रोमैक्स, स्पाइस, रिलायंस, कार्बन,
अमर पीसी एवं
चिराग जैसी कुछ
भारतीय कंपनियां भी हैं
जोकि काफी लोकप्रिय
हैं. आत्मनिर्भर बनने
का यह बहुत
ही अच्छा मौका
हो सकता है.

स्वदेशी मोटरसाइकिल एवं स्कूटी (Swadeshi 2 – Tire Vehicle) :-

लोगों को कही
जाना होता है
तो लोग अक्सर
2 पहिया वाहन जैसे
मोटरसाइकिल एवं स्कूटी
का इस्तेमाल करते
हैं. ऐसे 2 पहिया
वाहन बनाने वाली
हौंडा एवं यामाहा
जैसी कुछ विदेशी
कंपनी हैं जिसके
वाहन लोग काफी
अधिक उपयोग करते
हैं. लेकिन भारत
में हीरो, बजाज,
टीवीएस जैसी भी
कुछ कंपनियां हैं
जोकि विदेशी कंपनी
के साथ प्रतिस्पर्धा
कर रही हैं.
यदि आप भी
यह काम करने
के एक्सपर्ट हैं
तो आप विदेशी
कंपनी के साथ
प्रतिस्पर्धा में अपनी
खुद की एक
ब्रांड को भी
खड़ा कर सकते
हैं. यह भी
एक बहुत ही
अच्छा स्वदेशी बिज़नेस
प्लान हो सकता
है. लेकिन इसके
लिए आवश्यक हैं
कि आपके पास
इसका बेहतर नॉलेज
होना चाहिए.

स्वदेशी जूते / चप्पल ब्रांड (Swadeshi Shoes / Sliper) :-

लोगों को कही
बाहर जाना होता
हैं या घर
पर भी लोग
अपने पैरों में
जूते / चप्पल अवश्य पहनते
हैं. खासकर खेल
के दौरान. यदि
आप आरामदायक एवं
बेहतर जूते / चप्पल
का निर्माण करने
का व्यवसाय कर
सकते हैं तो
आपके लिए यह
खुद की ब्रांड
शुरू करने का
बेहतर अवसर हो
सकता हैं. क्योकि
इन दिनों स्वदेशी
एवं मेक इन
इंडिया को बहुत
अधिक बढ़ावा दिया
जा रहा हैं.
इसलिए लोग स्वदेशी
प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल
भी अधिक कर
रहे हैं. जूतों
में नाइक, रीबोक,
एडीडास एवं कैनवास
जैसी विदेशी कंपनियों
के जूते लोग
बहुत अधिक उपयोग
करते हैं. लेकिन
भारत में कुछ
स्वदेशी कंपनियां जैसे पैरागन,
लखानी, चावड़ा, खादिम, विकेसी
प्राइड एवं लूनार
फुटवेयर भी हैं
जोकि इसका निर्माण
करती हैं और
काफी अधिक प्रसिद्ध
भी हैं. आप
इन कंपनियों का
सहारा लेते हुए
या खुद से
ही अपने ब्रांड
की चप्पल एवं
जूते का निर्माण
कर सकते हैं.
और स्वदेशी बिज़नेस
शुरू कर सकते
हैं.

 

साबुन बनाने का व्यवसाय:-
साबुन बनाना कोई मुश्किल काम नहीं है यदि आप इसकी विधि जानते हैं अथवा जानना चाहते हैं तो आप ऐसे प्रशिक्षित लोगों से पूछ सकते हैं कि साबुन किस प्रकार बनाए जाते हैं और आप आसानी से घर बैठे साबुन बनाने का व्यवसाय आरंभ कर सकते हैं। साबुन बनाने की व्यवसाय इसे आप आसानी से स्वदेशी व्यवसाय से जुड़ जाते हैं और देश में बनी वस्तुओं का व्यापार करने से आपको मनासा भी अधिक होता है।

 

गोमूत्र से बने उत्पाद:-
भारत देश में गाय को माता की पदवी दी जाती है इसके चलते यदि हमारे पूर्वजों से पूछा जाए तो गोमूत्र का बहुत ज्यादा उपयोग होते हैं और वह बेहद लाभदायक भी माना जाता है। पतंजलि परिधान का नाम तो आपने सुना ही होगा यह एक ऐसा परिधान है जो पूरी तरह से स्वदेशी प्रोडक्ट बनाने का काम करती हैं। इस कंपनी द्वारा बनाए जाने वाले अधिकतर प्रोडक्ट गाय भैंस के दूध अथवा गोमूत्र से बनाए जाते हैं।

गाय के दूध से बनने वाले उत्पाद:-
गाय के दूध से बनने वाले उत्पाद का सेवन तो आप नित्य प्रति करते ही होंगे। अब आपको बताने की आवश्यकता तो नहीं है कि गाय के दूध से किस तरह के उत्पाद बनते हैं लेकिन फिर भी चलिए जान लेते हैं। गाय के दूध से बटर, चीज़, घी, मक्खन, दही, मिल्कमेड आदि बनाए जाते हैं। इन प्रोडक्ट का निर्माण करने वाली कंपनियों की यदि बात करें तो सबसे पहले नाम अमूल पार्लर का आता है जो कि आज के समय में बहुत ज्यादा मशहूर है। ठीक इसी प्रकार यदि आपके पास भी एक गाय है तो आप गाय के दूध से बहुत अलग अलग प्रोडक्ट बनाकर अपनी खुद की एक कंपनी आसानी से खोल सकते हैं।

फ्रूट जैम अथवा जूस:-
हमारे देश में फलों की बागवानी बहुत बड़े पैमाने पर होती है ऐसे में यदि फलों से प्राप्त फ्रूट जैम अथवा जूस का व्यापार किया जाए तो यह एक सरल और बेहद ज्यादा कमाई वाला स्वदेशी व्यापार बन सकता है।

स्वदेशी टूथपेस्ट:-
टूथपेस्ट आज के समय में हर व्यक्ति की आवश्यकता है। क्योंकि स्वाद चखने के लिए दांतो का स्वस्थ रहना बेहद आवश्यक है। ऐसे में यदि आपको कुछ प्रकार की जड़ी बूटियों का ज्ञान हो तो आप भी देश में मौजूद बड़ीबड़ी कंपनियों की तरह खुद का एक ऐसा व्यापार शुरू कर सकते हैं जिसमें आप अपना स्वदेशी टूथपेस्ट बाजार में बना कर भेज सकते हैं। आपने देश में स्थापित कंपनियों के नाम तो सुने ही होंगे जिनमें पतंजलि, डाबर विकको, विको वज्रदंती आदि कंपनियां है जो टूथपेस्ट का निर्माण करते हैं और इनमें से बहुत से टूथपेस्ट आपने इस्तेमाल भी किये होंगे।

स्वदेशी चाय और कॉफी का उत्पादन:-
भारत देश में चाय की बात आते ही सब के मुंह में पानी जाता है। चाय पीने वालों के साथ साथ कॉफी के शौकीनों की कमी भी नहीं है ऐसे में यदि आप देश में पैदा होने वाली चाय और कॉफी से जुड़ा व्यापार करना चाहते हैं तो आप आसानी से इस व्यापार में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

स्वदेशी गारमेंट्स का व्यापार:-
यदि आप कपड़े बनाने के ज्ञाता है अर्थात एक टेलर हैं तो आप खुद का ब्रैंड रजिस्टर करके अपने ही देश में अपने ब्रांड से बने कपड़ों का व्यापार भी आसानी से कर सकते हैं। भारत को एक नई पहचान देते हुए अपने द्वारा बनाए जाने वाले कपड़ों को आप पूरे विश्व में भी फैला सकते हैं। क्योंकि आपके काम से ही आपकी पहचान होगी ऐसे में आप अपनी पसंद के डिजाइन आसानी से बना कर अपना व्यवसाय बहुत शीघ्रता से मजदूर कर सकते हैं।

 

ऊपर बताए गए सभी व्यवस्थाएं कम लागत वाले ऐसे व्यवस्थाएं हैं जिन्हें भारत में रहने वाला कोई भी व्यक्ति छोटे स्तर पर आरंभ कर सकता है। जिससे भारत की अर्थव्यवस्था को विकास भी मिलेगा और आपके जीवन में भी कई बड़े बड़े बदलाव सकते हैं। अर्थव्यवस्था में अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हुए देश के प्रधानमंत्री मोदी की बात को समझते हुए यदि हम अपने देश में बनी वस्तुओं का इस्तेमाल अधिक करेंगे तो ऐसे में हम अपने देश को विकास की ओर तीव्र गति से ले जा सकेंगे।

 

गाय के दूध से बने उत्पाद का बिजनेस 
(Business of cow milk products)

बाजार में कई
ऐसी कंपनियां हैं,
जो गाय के
दूध से बने
उत्पाद बनाकर लाखोंकरोड़ों
रुपए की कमाई
कर रही हैं.
आप भी गाय
के दूध से
घी, मक्खन, बटर,
दही, मिल्क मेड
और चॉकलेट बनाने
का स्वदेशी बिजनेस
शुरू कर सकते
हैं. यह सभी
उत्पाद को गाय
के दूध की
मदद से बनाए
जाते हैं, जिनकी
डिमांड हमेशा बाजार में
बनी रहती है.
इस स्वेदशी बिजनेस
से अच्छा मुनाफ़ा
भी
कमाया जा सकता
है. इस बिजनेस
को शुरू करके
आप अपनी और
कंपनी की एक
अलग पहचान बना
सकते हैं.

 

गाय मूत्र से बनने वाले उत्पाद का बिजनेस
(Business of cow urine product)

गाय को बहुत
उपयोगी औऱ दुधारू
पशु माना जाता
है. गाय का
दूध जितना मुनाफ़ा
दे सकता है,
उससे कई ज्यादा
मुनाफ़ा गाय के
मूत्र से भी
कमाया जा सकता
है. जी हां,
आप गाय के
मूत्र से भी
एक अच्छा बिजनेस
खड़ा कर सकते
हैं. बता दें
कि गाय के
मूत्र की मदद
से आप अर्क,
नहाने का साबुन,
डिटर्जेंट पाउडर, शैम्पू, फिनाइल
आदि उत्पाद बनाने
का स्वेदशी बिजनेस
शुरू कर सकते
हैं. इसके द्वारा
बनाए जाने वाले
सभी उत्पाद शरीर
के लिए बहुत
लाभकारी माने जाते
हैं. ऐसे में
यह एक बहुत
ही बेहतर स्वदेशी
बिजनेस आइडिया है, जिसको घर
से भी आसानी
से शुरू किया
जा सकता है.

Related articles

Top 10 Small Business Ideas

Starting a small business can be an excellent opportunity...

जीएसटी नंबर के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें (How to registration for GST number in Hindi)? – Part 2

Registration for GST Number - Part 2 नीचे दिए स्टेप्स फॉलो कर आप GST रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन ही कर सकते हैं। सबसे पहले अपने ब्राउज़र पर इस लिंक को खोलें - http://www.gst.gov.in।  आपके सामने एक पेज खुल जाएगा। उस पेज पर न्यू रजिस्ट्रेशन(new registration) के लिए फॉर्म GST...

मार्केटिंग कैसे करें व 2023 के मार्केटिंग के विभिन्न बेहतरीन तरीके – 2023 Top Best Marketing Strategy Tips in Hindi

आज के समय में पैसे खर्च कर व्यापार स्टार्ट करना तो बहुत आसान काम है, मुश्किल है तो आपकी सोच को लोगों तक पहुँचना और लोगों को अपनी ओर आकर्षित करना. मार्केटिंग और प्रमोशन ही वह चीजें है, जिसके द्वारा आप अपना प्रोडक्ट और सेवाएँ लोगों तक पहुंचा सकते है और लोगों को इसके संबंध में जानकारी दे सकते है. वैसे तो मार्केटिंग के कई तरीके उपलब्ध है, परंतु आपको अपना व्यवसाय उसका आकार और प्रकार देखकर सही तारीका चुनने की आवश्यकता होती है. और कई हद तक आपकी मार्केटिंग का तरीका आपके बजट और आपके प्रोडक्ट या सेवा पर भी निर्भर करता है. मार्केटिंग क्या है ? - what is Marketing ? मुख्यतः मार्केटिंग वह तरीका है जिसके द्वारा लोग अपनी जरूरतों और इच्छाओ की पूर्ति के लिए आपके व्यापार से परिचित होते है. हमारे आसपास कई ऐसे उदाहरण मौजूद होते है, जिनमें लोगों के पास एक बहुत अच्छा बिज़नेस प्लान होता है, परंतु उसे सही मार्केटिंग ना मिल पाने की वजह से वह लोगों तक नहीं पहुँच पाता और असफल हो जाता है. आपको अपने व्यापार को सफल बनाने के लिए यह आवश्यक है कि आप अपने दायरे से बाहर आकर लोगों तक अपनी सोच को पहुंचाये और अपने लिए एक ग्राहकों का आधार तैयार करे. एडवरटाइजिंग, सेलिंग और प्रमोशन मार्केटिंग का ही एक भाग है, परंतु मार्केटिंग केवल इन तक सिमित नहीं इससे और भी बहुत कुछ जुड़ा हुआ है. मार्केटिंग के 6 पी (6 P’s of Marketing ) : जब आप अपने प्रोडक्ट या सेवा को लांच करते है तो आपको मुख्यत 6 बातों को ध्यान रखना पड़ता है, इन्हें मार्केटिंग के 6 पी के नाम से जाना जाता है. यह 6 पी निम्न है: ...

Case Studies