GST नंबर कैसे लें? जीएसटी रजिस्ट्रेशन प्रोसेस – GST Registration Process Online

 

यदि आप सोच रहे हैं कि GST नंबर कैसे मिलेगा या जीएसटी(GST) क्या है तो आप सही जगह आये हैं। आज हम आपको इस लेख की मदद से जीएसटी के बारे में विस्तार  से बताएंगे और साथ-साथ ये भी बताएंगे कि इसका रजिस्ट्रेशन(registration) कैसे करते हैं? साथ ही आप GST रजिस्ट्रेशन प्रोसेस हिंदी में डाउनलोड (GST registration process in Hindi pdf download) कर सकते हैं।

 

 

जीएसटी क्या है (What is GST in Hindi)?

जीएसटी(GST) का मतलब होता है वस्तु एवं सेवा कर(Goods and services Tax) अर्थात वस्तु यानी कि  गुड्स(Goods) तथा सेवा यानी कि सर्विसेज(Services)  पर लगने वाला टैक्स। भारत में जब जीएसटी(GST) लागू नहीं हुआ था  तो भारत की   टैक्स प्रणाली(Tax System) दो हिस्सों में बटी हुई थीडायरेक्ट टैक्स(Direct
Tax)
और इनडायरेक्ट टैक्स (Indirect Tax)। 

डायरेक्ट टैक्स के अंतर्गत वह टैक्स आते थे जो आम नागरिकों द्वारा सरकार को सीधे तौर पर दिया जाते थे। जिसके अंतर्गत इनकम टैक्स, हाउस टैक्स, कॉरपोरेट टैक्स, इंटरेस्ट टैक्स इत्यादि आते थे और वही दूसरे टैक्स की बात करें तो वह था इनडायरेक्ट टैक्स(Indirect tax) जिसे हम अप्रत्यक्ष कर के नाम से भी जानते हैं।  हले जब कोई भी प्रोडक्ट(products) या सर्विस(services) बाजार में कस्टमर को प्रोवाइड कराई जाती थी तो उस प्रोडक्ट या सर्विस (Products or Services) को मार्केट में लाने के लिए सेल्समैन (salesman) या उसके दुकानदार को भारत सरकार को टैक्स देना ड़ता था और उस टैक्स की भरपाई कस्टमर(customer) के जेब से ही की जाती थी। इसके साथ साथ जब कोई प्रोडक्ट मार्केट में सेल के लिए आती थी तो उसके एमआरपी(MRP) या मैक्सिमम रिटेल प्राइस(Maximum Retail Price) में कई प्रकार के टैक्स जैसे की सर्विस टैक्स (Service Tax), VAT, एक्साइज ड्यूटी (Excise duty) इत्यादि शामिल होते थे और इन सभी प्रकार के टेक्स कस्टमर को ही इनडायरेक्टली (Indirectly) देना पड़ता था। जिसके बारे में उनको पता भी नहीं होता था कि वह कितने प्रकार के टैक्स एक साथ भर रहे हैं।

 

लेकिन जीएसटी(GST) के आने के बाद उपभोक्ताओं को सिर्फ एक ही टैक्स का भुगतान करना होता है जिसे हम जीएसटी के नाम से जानते हैं। जीएसटी का मतलब
ही है एक राष्ट्र एक कर पहले अलग अलग राज्यों में किसी वस्तु का रेट (price) अलगअलग होता था। लेकिन अब वही जीएसटी(GST) के आने के बाद इसके  यरे में आने वाले सभी वस्तुओं का रेट पूरे भारत में एक होता है।  अब आप कोई भी सामान को खरीदते हैं तो उस पर लगनेवाले टैक्स के प्रतिशत के बारे में उसके रिसिप्ट(receipt) पर लिखा होता है। अब अगर कोई व्यक्ति कोई सामान खरीदता है तो उसके लिए यह समझना आसान  गया है कि उसके द्वारा कितना टैक्स पे(tax pay) किया गया है।

एसजीएसटी (SGST) सीजीएसटी(CGST)क्या है?

जब भारत में जीएसटी(GST) लागू नहीं था तो राज्य सरकार हर वस्तु  पर मनमाना टैक्स लगाती थी जिसके कारण हर राज्य में हर वस्तु की कीमत अलगअलग होती थी। चूँकि ये प्रोसेस इतना जटिल  था बहुत से बिज़नेस आईडिया तक ही सिमित रह जाते थे और व्यवसाय कर पाना काफी मुश्किल था। लेकिन अब जीएसटी(GST) के आने के बाद टैक्स सिस्टम(Tax System) पुरे तरीके से बदल गया है। अब जब किसी प्रोडक्ट पर जीएसटी(GST) लगता है तो वह दो भागों में बांटा जाता है: जिसमें एसजीएसटी(SGST) यानी कि स्टेट गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (State Goods and Services Tax) तथा सीजीएसटी(CGST) यानी कि सेंट्रल गुड्स
एंड सर्विसेज टैक्स(Central Goods And Services Tax) है। 

अब जब कोई भी खरीदार कोई भी वस्तु खरीदता है तो उस पर लगने वाला टैक्स केंद्र और राज्य सरकार में बांट लिया जाता है। केंद्र सरकार ने अलग-अलग प्रोडक्ट और सर्विसेस(products and services) के अनुसार जीएसटी(GST) के अलग-अलग कैटेगरी बनाई है जिसमें 5%, 12%, 18%, 28% शामिल है। यह प्रोडक्ट या सर्विस पर निर्भर करता है कि उस पर कितना GST लगेगा।

अब आप तो समझ ही गए होंगे कि जीएसटी(GST) होता क्या है आइए हम आपको विस्तार से बताएं कि जीएसटी नंबर(GST Number) के लिए रजिस्ट्रेशन(Registration) कैसे करते हैं (How to get GST number in Hindi)? लेकिन आईए उससे पहले जानते हैं कि जीएसटी पंजीकरण (GST Registration) के लिए कौनकौन से मुख्य डॉक्युमेंट्स(important documents) की जरूरत पड़ती है:

जीएसटी रजिस्ट्रेशन के लिए डाक्यूमेंट्स (Important documents for GST registration in Hindi)

GST रजिस्ट्रेशन प्रोसेस काफी आसान है। इसके लिए GST रजिस्ट्रेशन के लिए नीचे दिए डाक्यूमेंट्स कि जरुरत होती है। आपका PAN कार्ड बिज़नेस का इनकारपोरेशन

  • सर्टिफिकेट
  • बिज़नेस ओनर का
    आईडी, एड्रेस प्रूफ
    फोटोग्राफ के साथ
  • बिज़नेस का रजिस्टर्ड
    एड्रेस प्रूफ
  • आपका बैंक अकाउंट
    स्टेटमेंट
  • क्लास 2 डिजिटल सिग्नेचर (यदि
    आप कंपनी या लिमिटेड
    लायबिलिटी पार्टनरशिप चलाते हैं)

जीएसटी नंबर के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें (How to registration for GST number in Hindi)? – Part 2

 

 

Related articles

Top 10 Small Business Ideas

Starting a small business can be an excellent opportunity...

जीएसटी नंबर के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें (How to registration for GST number in Hindi)? – Part 2

Registration for GST Number - Part 2 नीचे दिए स्टेप्स फॉलो कर आप GST रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन ही कर सकते हैं। सबसे पहले अपने ब्राउज़र पर इस लिंक को खोलें - http://www.gst.gov.in।  आपके सामने एक पेज खुल जाएगा। उस पेज पर न्यू रजिस्ट्रेशन(new registration) के लिए फॉर्म GST...

मार्केटिंग कैसे करें व 2023 के मार्केटिंग के विभिन्न बेहतरीन तरीके – 2023 Top Best Marketing Strategy Tips in Hindi

आज के समय में पैसे खर्च कर व्यापार स्टार्ट करना तो बहुत आसान काम है, मुश्किल है तो आपकी सोच को लोगों तक पहुँचना और लोगों को अपनी ओर आकर्षित करना. मार्केटिंग और प्रमोशन ही वह चीजें है, जिसके द्वारा आप अपना प्रोडक्ट और सेवाएँ लोगों तक पहुंचा सकते है और लोगों को इसके संबंध में जानकारी दे सकते है. वैसे तो मार्केटिंग के कई तरीके उपलब्ध है, परंतु आपको अपना व्यवसाय उसका आकार और प्रकार देखकर सही तारीका चुनने की आवश्यकता होती है. और कई हद तक आपकी मार्केटिंग का तरीका आपके बजट और आपके प्रोडक्ट या सेवा पर भी निर्भर करता है. मार्केटिंग क्या है ? - what is Marketing ? मुख्यतः मार्केटिंग वह तरीका है जिसके द्वारा लोग अपनी जरूरतों और इच्छाओ की पूर्ति के लिए आपके व्यापार से परिचित होते है. हमारे आसपास कई ऐसे उदाहरण मौजूद होते है, जिनमें लोगों के पास एक बहुत अच्छा बिज़नेस प्लान होता है, परंतु उसे सही मार्केटिंग ना मिल पाने की वजह से वह लोगों तक नहीं पहुँच पाता और असफल हो जाता है. आपको अपने व्यापार को सफल बनाने के लिए यह आवश्यक है कि आप अपने दायरे से बाहर आकर लोगों तक अपनी सोच को पहुंचाये और अपने लिए एक ग्राहकों का आधार तैयार करे. एडवरटाइजिंग, सेलिंग और प्रमोशन मार्केटिंग का ही एक भाग है, परंतु मार्केटिंग केवल इन तक सिमित नहीं इससे और भी बहुत कुछ जुड़ा हुआ है. मार्केटिंग के 6 पी (6 P’s of Marketing ) : जब आप अपने प्रोडक्ट या सेवा को लांच करते है तो आपको मुख्यत 6 बातों को ध्यान रखना पड़ता है, इन्हें मार्केटिंग के 6 पी के नाम से जाना जाता है. यह 6 पी निम्न है: ...

स्वदेशी बिजनेस आइडिया – कैसे बने आत्मनिर्भर – Low Investment Swadeshi Business Ideas

देश और स्वयं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए शुरू करें ये 5...

Case Studies